13.6 C
London
Wednesday, June 19, 2024

भारतीयम इंटरनेशनल स्कूल ने पेश की मानवता की मिसाल 

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी, रुद्रपुर।  एक तरफ जहां कोरोना काल की विषम परिस्थितियों में भी प्राइवेट स्कूल प्रबंधन स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं से मनमाने ढंग से फीस वसूल रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ उधम सिंह नगर जिले के लालपुर में स्थित भारतीयम इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने कोरोना संक्रमण से मरने वाले अभिभावकों के बच्चों को 12वीं तक पूरी तरह से निशुल्क शिक्षा देने का निर्णय लिया है। भारतीयम इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष भरत गोयल ने कहा कि मानवता के नाते स्कूल प्रबंधन ने इस नेक पहल की शुरुआत की है।

स्कूल की प्रधानाचार्य शिखा गौतम ने भी यह बताया कि वर्तमान समय में उनके स्कूल में तीन ऐसे छात्र-छात्राओं को स्कूल प्रबंधन द्वारा निशुल्क शिक्षा दी जा रही है जिनके परिवार में कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से घर के कमाऊ सदस्य अथवा अभिभावक की मौत हो चुकी है। गौतम ने यह भी बताया कि जिन तीन छात्र-छात्राओं को स्कूल प्रबंधन ने 12वीं तक निशुल्क शिक्षा देने का निर्णय लिया है उन बच्चों को पढ़ाई से संबंधित किसी भी प्रकार की आर्थिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा और जरूरत पड़ने पर स्कूल प्रबंधन उन्हें पढ़ाई से संबंधित सभी प्रकार की अत्याधुनिक सुविधाएं भी निशुल्क मुहैया कराएगा।

दरअसल कोरोना की दूसरी लहर ने देश के तमाम लोगों से काफी कुछ छीन लिया और इस दौरान कई बच्चे यतीम भी हो गए। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से जिन बच्चों के घर चलाने वाले कमाऊ सदस्य अथवा अभिभावकों की असमय मौत हो गई हो ऐसे बच्चों को 12वीं तक निशुल्क शिक्षा देने की अत्यंत सराहनीय पहल शुरू कर भारतीयम इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने मनमाने ढंग से फीस वसूलने वाले अन्य स्कूलों को आईना दिखाने के साथ-साथ निश्चित रूप से समाज में मानवता की एक शानदार मिसाल भी कायम की है।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »