13.1 C
London
Wednesday, May 29, 2024

मौसम विभाग ने 6 जिलों में भारी बारिश का किया अलर्ट जारी

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। उत्तराखंड में अगले 48 घंटे मौसम के लिहाज से भारी पड़ने की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र ने 16 और 17 जुलाई का रेड अलर्ट जारी किया है। इन दो दिन आकाशीय बिजली चमकने और भारी से भारी वर्षा होने की संभावना जताई गयी है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार राज्य के इन जनपदों में 16 एवं 17 जुलाई को कहीं-कहीं बहुत भारी से अत्यन्त भारी वर्षा के साथ-साथ कहीं-कहीं गर्जन के साथ आकाशीय बिजली चमकने/ वर्षा के अति तीव्र से अत्यन्त तीव्र दौर (रेड अलर्ट) होने की संभावना व्यक्त की गयी है। मौसम विज्ञान केंद्र ने आज 16 जुलाई को उत्तराखंड के चार जिलों देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी और टिहरी जिले के लिए भारी से अत्यंत भारी वर्षा का रेड अलर्ट जारी किया है। जबकि, अन्य जिलों के लिए बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक 17 जुलाई को देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, टिहरी, चंपावत, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर के लिए भारी से अत्यंत भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है। वहीं, 18 जुलाई को प्रदेशभर में ऑरेंज अलर्ट है। जबकि, 19 जुलाई के लिए सभी जिलों में बारिश का येलो अलर्ट है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के मुताबिक राज्य में 19 जुलाई तक बारिश का दौर बने रहने की संभावना है जिसके बाद एक सप्ताह के लिए बारिश से कुछ राहत रहेगी।

मौसम विभाग द्वारा जारी चेतावनी के मध्येनजर प्रभारी अधिकारी जिला कार्यालय टिहरी ने जनपद के अन्तर्गत विशेष तौर से सावधानियां बरतने हेतु आपदा प्रबन्धन आईआरएस प्रणाली के नामित समस्त अधिकारी एवं विभागीय नोडल अधिकारी हाई अलर्ट में रहने, एनएच, लोनिवि, पीएमजीएसवाई, बीआरओ, डब्लूबी, पीआईयू आदि किसी भी मोटर मार्ग के बाधित होने की दशा में उसे तत्काल खुलवाने, समस्त राजस्व उपनिरीक्षक, ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में बने रहने तथा ग्राम प्रहरियों के साथ कंट्रोल रूम के माध्यम से सतर्क स्थिति बनाये रखने को कहा गया है। इसके साथ ही संवेदनशील ग्रामों/क्षेत्रों में विशेष सतर्क दृष्टि बनाये रखने, समस्त तहसीलें/थाना/चौकियां, अग्निशमन केन्द्र भी आपदा सम्बन्धित उपकरणों एवं वायरलैस सहित हाई अलर्ट में रखने को कहा गया है।

आपातकालीन स्थिति के लिए अधिकारीगणों को व्यक्तिगत रूप से बरसाती, छाता, टार्च, हैलमेट तथा कुछ आवश्यक उपकरण एवं सामग्री अपने वाहनों में अपने स्तर से रखने हेतु उचित कार्यवाही करेंगे। किसी भी आपदा / दुर्घटना की स्थिति में त्वरित स्थलीय कार्यवाही करते हुए सूचनाओं का तत्काल आदान प्रदान किया जाये। विद्यालयों सावधानी, सुरक्षा बरती जाये। असामान्य मौसम, भारी वर्षों की चेतावनियों के दौरान उच्च क्षेत्रों में पर्यटकों के आवागमन की अनुमति न दी जाये। इस दौरान प्रमुख नदियां/ सहायक नदियों एवं मौसमी नालों का जलस्तर का निरन्तर अवलोकन किया जाता रहे, खतरे के निकट पर पहुंचने से पहले नदी तट के समीपस्थ लोगों का जन सुरक्षा के दृष्टिगत सुरक्षित स्थानों मे जाने हेतु अवगत कराया जाये।

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »