16.6 C
London
Thursday, May 23, 2024

छोटी सी उम्र में अपने हुनर से बुलंदियां छू रहे ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी,रुद्रपुर। छोटी सी उम्र में अपने हुनर से बुलंदियां छू रहे ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह आज युवाओं और किशोरों के लिये प्रेरणा बन कर उभर रहे हैं। उनकी यात्रा में लेखन, शैक्षिक उत्कृष्टता और विभिन्न तकनीकी क्षेत्रों में अभिरुचि शामिल हैं, जो उनके उपलब्धियों की गहरी पहचान है। शहर के कस्तूरी वाटिका में रहने वाले 14 वर्षीय ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह स्टोन रिज इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ते हैं। कम आयु में ही, रुद्र ने साहित्यिक दुनिया में बाल उपन्यास के सबसे युवा लेखक के रूप में अपना नाम बनाया है, जो साहित्यिक जगत को गहरे प्रभाव से यादगार बना रहा है। उनकी प्रकाशित किताबें, जिनमें फिक्शन नॉवेल्स, नथिंग इज इनऑपरेबल, द ग्रेट आर्काइव्स, माई कल्चर माई आइडेंटिटी, मेरी संस्कृति, मेरी पहचान, टेक एडवाइजरी, ए टीनएजर्स वॉयस, ष्व्हिस्पर्स इन द शैडोज, और मेटावसरू समझाया गया शामिल हैं, उन्होंने पाठकों को अपनी मनोहारी कथाओं और विचार प्रेरक विषयों के साथ मोह लिया है।

रुद्र की साहित्यिक क्षमता को भारत रिकॉर्ड ऑफ रिकॉर्ड्स ने मान्यता दी है, जो उनकी प्रतिष्ठा को और मजबूत करती है। उनकी शिक्षा में उत्कृष्टता भी एक महत्वपूर्ण पहलू है। उन्होंने अपनी शैक्षिक योग्यता को ओलंपियाड में प्रतिष्ठात्मक अंतर्राष्ट्रीय स्थान प्राप्त करके साबित किया है।

वह PYTHON, C++, REACT.js, HTML, CSS, और JAVA जैसी कई प्रोग्रामिंग भाषाओं में प्रमाणित हैं, जो उनकी नवाचारशीलता और नवीनता को प्रतिष्ठित करते हैं। उन्हें इथिकल हैकिंग में भी माहिरत है और उनकी उपलब्धियों ने IT और API क्षेत्र में उन्हें एक प्रशिक्षक के रूप में मान्यता प्राप्त कराया है। उनके व्यक्तिगत उपलब्धियों के साथ-साथ, ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह ने सामाजिक सेवा में भी सक्रिय भूमिका निभाई है। उन्होंने युवा लेखकों को सशक्त बनाने के लिए एक युवा की आवाज’ नामक पहल पर काम किया है। इन सभी कार्यों के प्रति उनकी समर्पण और सामाजिक कार्यों के प्रति उनका समर्पण कारण है कि उन्हें GYAN UDAY FOUNDATION द्वारा अंतर्राष्ट्रीय अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया है।

जैसे-जैसे रुद्र अपनी यात्रा में आगे बढ़ते हैं, उनका प्रभाव और प्रभाव नई ऊँचाइयों को छूने लगता है। उनके निरंतर समर्पण, प्रतिरोधशीलता, और अविचलित प्रेम द्वारा वे आगे बढ़ते हैं और अपने चयनित क्षेत्रों में नई उपलब्धियों को हासिल करते रहते हैं। ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह की कहानी यह दिखाती है कि सफलता के लिए आयु कोई प्रतिबंध नहीं है और अटूट समर्पण के साथ कोई भी अद्भुत उपलब्धि हासिल की जा सकती है।

रुद्र ने अपने हर एक साधन से विदेश में ख्याति प्राप्त की है, वहां से विद्या और अनुभव लाकर वह अपनी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वह ISRO India के सदस्य भी हैं, जो एक उच्च प्रमाण की दृष्टि से इंडिया और उत्तराखंड के लिए गर्व है। इन सभी उपलब्धियों के साथ, ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह को विभिन्न संगठनों द्वारा भी मान्यता प्राप्त हुई है, जैसे कि Shishullash Organization – Indian Branch, KDP जैसे विश्वसनीय स्व-प्रकाशन घर, और अन्य कई संगठनों द्वारा।

ठाकुर रुद्र प्रताप सिंह अपनी सफलता के लिए मार्गदर्शक शिक्षिका मिस नेहा कक्कड़ का धन्यवाद देते हैं। उन्होंने कहा, उनकी मार्गदर्शन और सहायता ने मेरी उल्लेखनीय उपलब्धियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, विशेष रूप से इंडिया इंटरनेशनल स्टूडेंट साइंटिस्ट अवॉर्ड 20231 रुद्र की सफलता और उपलब्धियां न सिर्फ रुद्रपुर बल्कि उत्तराखंड के लिये भी गर्व का विषय है।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »