13.1 C
London
Wednesday, May 29, 2024

जीएसटी का आकस्मिक सर्वे व्यापारियों का उत्पीड़न और उत्पीड़न किसी भी कीमत में बर्दाश्त नहीं: व्यापर मंडल

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। जनपद ऊधम सिंह नगर के जिलामुख्यालय रुद्रपुर में प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने जीएसटी सर्वे के नाम पर व्यापारियों पर हो रहे उत्पीड़न को लेकर नाराजगी जतायी है। पदाधिकारियों का कहना है कि राज्य कर विभाग के अधिकारियों को बाजार में आकर प्रतिष्ठानों में जांच नहीं करनी चाहिए। इससे व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त है। सर्वे के विरोध में मंगलवार को संगठन के सभी 18 जिलों में एडीएम, एसडीएम को ज्ञापन देने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा 28 जुलाई जीएसटी का पुतला फूंका जाएगा।सोमवार को एक निजी होटल में पत्रकार वार्ता के दौरान प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के जिलाध्यख राजकुमार भुड्डी ने कहा कि जीएसटी काउंसिल ने जीएसटी का सरलीकरण करने की बजाय और पेचीदा बना दिया है।वर्तमान में 18 जुलाई से खाद्यानों पर पांच प्रतिशत का टैक्स लगा दिया है। इसके अलावा अन्य कई वस्तुओं पर टैक्स की बढ़ोतरी की गयी है । जबकि वर्ष 2017 में जब जीएसटी लागू हुआ था उस वित्तमंत्री ने यह आवश्वासन दिया था कि खाद्य पदार्थों पर जीएसटी नहीं लगायी जाएगी। नगर अध्यक्ष संजय जुनेजा ने कहा कि सर्वे के नाम पर उनका उत्पीड़न किया जा रहा है। इसे व्यापारी किसी भी कीमत में बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य कर विभाग के अधिकारी बाजार में सर्वे के लिए न आएं। इसका सख्त विरोध किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मंगलवार और गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम के बाद भी विभाग ने सर्वे का काम नहीं रोका तो शनिवार को पूरे प्रदेश के पदाधिकारियों के साथ बैठक होगी। इसमें पूरे राज्य में बाजार को बंद रखने का ऐलान किया जाएगा। इस अवसर पर संगठन मंत्री राजकुमार सीकरी, विनीत जैन, हरीश अरोरा समेत कई व्यापारी मौजूद थे।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »