13.9 C
London
Thursday, May 23, 2024

जब भारतीय सेना के जवान को जान बचाने के लिए छोटे बच्चों ने दिया पुरस्कार, नम हो जाएंगी आंखें

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश ने काफी नुकसान पहुंचाया। यहां कई स्थानों पर बादल फटें तो कई स्थानों पर भूस्खलन देखने को मिला। नदियों में पानी इतना भर गया कि नदियां त्रासदी का कारण बन गईं। लेकिन इस दौरान उम्मीद की रोशनी थामी भारतीय सेना के जवानों और एनडीआरएफ तथा एसडीआरएफ के जवानों ने। इसी कड़ी में एक वीडियो सामने आया है जिसमें कुछ बच्चे उत्तराखंड में एक भारतीय सेना के जवान के प्रति सम्मान और समर्पण दिखा रहे हैं। दरअसल इस जवान को बच्चों ने यूं ही सम्मान नहीं दिया। जवान ने काम ही कुछ ऐसा किया जिस कारण बच्चों ने भारतीय सेना के इस जवान को सम्मानित किया।

उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के दाबकीखेड़ा की। यहां सेना के एक जवान के प्रति स्थानीय बच्चों ने सम्मान व्यक्त किया। यहां सेना द्वारा 7 आपातकालीन मेडिकल इमरजेंसी के मामलों का निपटान किया गया साथ ही 10 गावों के 600 से अधिक लोगों को रेस्क्यू किया है। साथ ही भारतीय सेना, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, राज्य प्रशासन द्वारा भोजन की आपूर्ति व प्राथमिक उपचार की व्यवस्था की गई। बता दें कि उत्तराखंड और हिमाचल में आई बाढ़ में कई लोगों की मौत हो चुकी हैं। यहां भूस्खलन और बाढ़ ने खूब तबाही मचाई है। इससे पहले हिमाचल में एनडीआरएफ की टीम ने कई लोगों को एक रस्सी के सहारे रेस्क्यू किया था।

एनडीआरएफ ने संयुक्त बचाव अभियान के तहत 28 ट्रेकरों और चरवाहों को हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले से रेस्क्यू किया था। यहां बाढ़ के जलस्तर के बढ़ जाने के कारण 11 लोग काफनू गांव से 15 किमी दूर फंस गए थे। 12 जुलाई को एनडीआरएफ इंस्पेक्टर प्रेम कुमार नेगी के नेतृत्व में घटनास्थल पर पहुंची और चुनौतिपूर्ण हालातों में अपने अदम्य साहस का परिचय देते हुए 28 लोगों को सफलतापूर्वक बचाया।

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »