12.4 C
London
Wednesday, June 19, 2024

इस वजह से कर दी पार्षद संघ के पूर्व अध्यक्ष विपिन शर्मा की हत्या

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी,काशीपुर। पुलिस ने पार्षद संघ के पूर्व अध्यक्ष विपिन शर्मा उर्फ पप्पी की हत्या का खुलासा करते हुए हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।हत्या के पीछे महज दो लाख रुपये के लेनदेन का विवाद बताया गया है। कोतवाली में घटना का खुलासा करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक अभय सिंह ने बताया कि प्लॉट खरीदने वाले टेकचंद का कहना था कि वह सौदे के मुताबिक पूरी रकम अदा कर चुका है, जबकि पप्पी उससे पूर्व में दिए गए दो लाख रुपये के चेक की रकम मांग रहे थे। इसी तनानती में पूर्व पार्षद की हत्या हो गई। मोहल्ला कानूनगोयान निवासी टेकचंद्र के मकान से सटा विपिन शर्मा उर्फ पप्पी का 1300 वर्ग फीट का एक भूखंड था। इसका सौदा पप्पी ने टेकचंद्र के साथ 800 रुपये फीट की दर से आठ लाख में किया था। टेकचंद्र ने उन्हें दो लाख रुपये का चेक दिया और कहा कि बाद में वापस हो जायेगा। बाकी की रकम उसने चुकता कर दी थी। दिसंबर 2022 में इस भूखंड का बैनामा 10 लाख रुपये में कराया जा चुका है। इसके बाद टेकचंद्र ने प्लॉट का दाखिल खारिज भी करा दिया। इसके बाद विपिन उससे चेक के दो लाख रुपये मांग रहे थे। जबकि टेकचंद्र का कहना था कि वह सारी रकम चुकता कर चुका है। बुधवार को विपिन ने उसे हिसाब करने के लिए अपने घर पर बुलाया था। शाम साढ़े चार बजे टेकचंद्र वहां पहुंचा। एक लाख के चेक को लेकर दोनों के बीच जमकर विवाद हुआ। इस दौरान टेकचंद्र ने विपिन के हाथ से चेक छीनकर फाड़ दिया। उनके बीच हाथापाई की नौबत आ गई। विवाद इतना बढ़ा कि टेकचंद्र को अपनी चप्पलें छोड़कर वहां से नंगे पांव ही भागना पड़ा। घर पहुंचते ही उसने परिवार के लोगों को कहीं भेज दिया और बाहर खड़े होकर विपिन के आने का इंतजार करने लगा। विपिन ने वहां पहुंचकर जैसे ही उसे ललकारा, तभी टेकचंद्र ने घर के अंदर से फावड़ा लाकर ताबड़तोड़ प्रहार कर उनकी निर्मम हत्या कर दी। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौप दिया गया था। पुलिस ने मृतक के पुत्र करन शर्मा की तहरीर पर आरोपी टेकचन्द के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »