11.8 C
London
Saturday, April 13, 2024

साइबर ठगों के निशाने पर ऊधम सिंह नगर! 500 लोगों को लगाया लाखों का चूना

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। ऊधम सिंह नगर. पिछले कुछ वर्षों में आई डिजिटल क्रांति से जीवन में बहुत सारे काम आसान हो गए हैं. डिजिटल क्रांति आने से घर बैठे पढ़ाई या नौकरी, पैसों के लेनदेन से लेकर अन्य कई जरूरी काम बेहद आसान हो गए हैं. डिजिटल क्रांति के बाद से साइबर अपराध की संख्या भी बहुत तेजी के साथ बढ़ रही है. हर दिन किसी ना किसी से डिजिटल तरीके से अपराधी ठगी कर रहे हैं. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जनपद में बीते दो महीने में साइबर ठगों ने करीब 500 लोगों को 60 लाख रुपये का चूना लगा दिया है. वहीं पुलिस वक़्त रहते साइबर ठगों के मुंह से इसकी 25 फीसदी रकम वापस लाने में सफल रही।

देशभर में लगातार बढ़ रहे साइबर क्राइमसे उत्तराखंड का उधम सिंह नगर जनपद भी अछूता नहीं है. पुलिस के तमाम प्रयासों के बावजूद जनपद में लगातार साइबर क्राइम से जुड़ी घटनाओं की संख्या बढ़ती जा रही है. साइबर ठगों द्वारा ओटीपी के नाम पर, डेटा हैकिंग, इकोनॉमिक फ्रॉड, मोबाइल फ्रॉड, सेक्सटॉर्शन जैसे अपराधों में वृद्धि हो रही है. जनपद में जनवरी और फरवरी में 465 लोगों से 59,54,614 रुपये ठग लिए गए, जिसमें से साइबर सेल द्वारा 15,45,606 रुपये की रिकवरी कर ली गई है।

एसपी सिटी मनोज कत्याल ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों में डिजिटल फ्रॉड में काफी तेजी से बढ़ोतरी हुई है. डिजिटल अपराधों को रोकने के लिए पुलिस द्वारा जागरूक किया जा रहा है, ताकि लोगों को डिजिटल फ्रॉड से बचाया जा सके. उन्होंने बताया कि हमारी टीम द्वारा साइबर ठगी करने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है. डिजिटल फ्रॉड करने वाले कई अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया है। उन्होंने आगे कहा कि इसको रोकने के लिए पुलिस द्वारा जनपद के स्कूलों, कॉलेजों, कम्पनियों के साथ साथ कोतवाली, थाना एवं चौकियों में कैंप लगाकर लोगों को साइबर फ्रॉड के प्रति जागरूक किया जा रहा है. साइबर फ्रॉड को कम करने के लिए जागरुकता जरूरी है. उन्होंने बताया कि जनपद में जनवरी और फरवरी में 465 साइबर फ्रॉड के केस दर्ज किए गए थे, जिनमें 59,54,614 रुपये की ठगी हुई थी, जबकि 15,45,606 रुपये की रिकवरी कर ली गई है।

साइबर फ्रॉड होने पर ऐसे करें पुलिस को शिकायत

एसपी सिटी मनोज कत्याल ने बताया कि जब भी साइबर फ्रॉड हो, तो आप सबसे पहले उत्तराखंड पुलिस ऐप या केंद्र सरकार द्वारा जारी नं 1930 और जिला पुलिस द्वारा जारी मोबाइल नं 9410961096 के साथ साथ राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिंग पोर्टल की वेबसाइट पर जाकर भी शिकायत कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि जितनी जल्दी सूचना मिलती है, उतनी ही साइबर ठग से पैसा रिकवरी की संभावनाएं ज्यादा होती हैं.

 

 

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »