14.8 C
London
Tuesday, June 25, 2024

रक्षाबंधन पर 474 साल बाद बन रहे अद्भुत संयोग

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी,रुद्रपुर। भाई-बहन के प्रेम के प्रतीक रक्षाबंधन पर्व पर आज कई शुभ योग बन रहे हैं। ‘अमृत विचार’ को जानकारी देते हुए ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी ने बताया कि रविवार को त्यौहार के दिन प्रातः 10 बजकर 34 मिनट तक शोभन योग बना हुआ है। शोभन योग को मांगलिक और शुभ कार्यों के लिए श्रेष्ठ मुहूर्त माना जाता है। दूसरा योग बन रहा है धनिष्ठा नक्षत्र का। रक्षाबंधन के दिन धनिष्ठा नक्षत्र शाम को 07 बजकर 40 मिनट तक है और राखी पर्व के शुभ दिन कुंभ राशि में गुरु वक्री चाल चलेंगे और यही पर चंद्रमा भी विराजमान रहेंगे। गुरु और चंद्रमा के एक ही राशि में विराजमान होने से गजकेसरी योग बन रहा है। सिंह राशि में सूर्य, मंगल और बुध के आने से करीब 474 साल बाद बन शुभ संयोग बन रहा है।

राखी को लेकर घरों में ही नही बल्कि बाज़ारो में भी तैयारी की जा रही है। रक्षाबंधन के लिए सुबह 05:50 से लेकर शाम के 05:58 तक कभी भी राखी बांधी जा सकती है। ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी ने बताया कि रक्षा धागा बांधते समय ध्यान रखें भाई को पूर्व दिशा की ओर बिठाएं। बहन का मुख पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए। इसके बाद भाई के माथे पर तिलक लगाकर दाहिने हाथ पर रक्षा सूत्र बांधे व इस मंत्र का पाठ करें – “येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:,                   तेन त्वां अभिबन्धामि रक्षे मा चल मा चल।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »