17.4 C
London
Sunday, June 16, 2024

युवक को खींच ले गया खूंखार गुलदार,खा गया जिस्म का आधा हिस्सा

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी,अल्मोड़ा। रानीखेत में नौगांव क्षेत्र के फयाटनौला में बीती रात गुलदार ने एक ग्रामीण युवक पर जानलेवा हमला कर उसको निवाला बना लिया आज सुबह युवक के जिस्म का आधा खाया हिस्सा झाड़ियों से बरामद हुआ है। घटना के बाद से ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है।

ताड़ीखेत ब्लॉक के फयाटनौला गांव में गुलदार ने एक ग्रामीण युवक को अपना निवाला बना लिया. इस घटना से पूरे फयाटनौला क्षेत्र में दहशत का माहौल बना है. ग्रामीणों ने घटना की सूचना वन विभाग को दी है. जिसके बाद वन विभाग की टीम फयाटनौला पहुंच गई है। ग्रामीणों के मुताबिक, फयाटनौला गांव का युवक जगदीश चंद्र असनोड़ा पुत्र बिशन दत्त असनोड़ा गांव में अकेला ही रहता था. बीती सोमवार की शाम वो घर से करीब तीन किलोमीटर ऊपर स्थित बाजार से सामान खरीद कर वापस लौट रहा था. तभी शाम करीब 7.30 बजे उस पर गुलदार ने जानलेवा हमला कर दिया.इस बात की जानकारी ग्रामीणों को तब मिली, जब मंगलवार को प्राइमरी स्कूल कनोली के बच्चे और अध्यापक अपने स्कूल में पहुंचे. स्कूल के पास ही खून के निशान मिले. इसके बाद अध्यापकों ने इसकी सूचना ग्रामीणों को दी. ग्रामीण राजेंद्र सिंह मावड़ी ने बताया कि खून के निशान मिलने पर ग्रामीणों ने खोजबीन शुरू की. खोजबीन के दौरान कहीं चप्पल तो कहीं पर कपडे़ पडे़ मिले।

कढ़ी मशक्कत और काफी खोजबीन के बाद गांव के ही एक नौले के पास झाड़ियों में एक शव पड़ा मिला. जिसके बाद ग्रामीणों को पता लगा कि यह शव गांव के ही जगदीश चंद्र असनोड़ा का है. जिसे गुलदार ने अपना निवाला बना लिया था. इसके बाद फयाटनौला के ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। गुलदार ने जहां जगदीश पर हमला किया वो इलाका गांव से एक किलोमीटर से भी ज्यादा दूर ऊंचाई पर स्थित है. घटनस्थाल पर खून के निशान देखकर पता चल रहा है कि गुलदार पहले जगदीश पर हमला कर उसे पहाड़ी की दूसरी तरफ कनोली की ओर ले गया. उसके बाद वो उसे घसीटकर वापस घटनास्थल से पहाड़ी के दूसरी तरफ यानी जगदीश के गांव की ओर ले गया होगा. घर से समानांतर करीब एक किलोमीटर और घटनास्थल से एक किलोमीटर से ज्यादा दूरी पर झाड़ियों में शव मिला है। जगदीश असनोड़ा एक पढ़ा-लिखा नौजवान था. कुछ समय दिल्ली में रहने के बाद वो गांव लौट आया था. जगदीश के दो बड़े भाई मोहन चंद्र असनोड़ा और चंद्रा दत्त असनोड़ा हैं. पिता का काफी समय पहले निधन हो चुका है. दोनों बड़े भाई दिल्ली और राजस्थान में प्राइवेट जॉब करते हैं।

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »