11.3 C
London
Friday, April 19, 2024

यहां रैगिंग के बाद MBBS छात्रों का हास्टल से किया निष्कासन

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में एक बार फिर रैगिंग का मामला सामने आया है। जांच के बाद एंटी रैगिंग कमेटी ने तीन सीनियर छात्रों को कॉलेज और हॉस्टल से निकाल दिया। साथ ही 25-25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। इस कार्रवाई से मेडिकल के छात्रों में हड़कंप मच गया है।शनिवार की शाम 2022 बैच के 13 से ज्यादा मेडिकल छात्र मेस में शाम के नाश्ते ( स्नैक्स) के लिए गए थे। इसी दौरान वहां पर 2021 बैच के तीन सीनियर छात्र भी उनके पीछे-पीछे मेस में पहुंच गए। तीनों सीनियर छात्रों ने जूनियर छात्रों की रैगिंग शुरू कर दी जिससे हंगामा खड़ा हो गया।

ड्यूटी में तैनात गार्ड की सूचना पर प्राचार्य डॉ. अरुण जोशी तुरंत कॉलेज प्रबंधन की टीम के साथ मौके पर पहुंचे और आरोपी छात्रों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी।कॉलेज और हॉस्टल से 6 माह तक के लिए निष्कासित: मामले में सोमवार को एंटी रैंगिग कमेटी बैठक कर तीन सीनियर छात्रों पर कार्रवाई की। जूनियर छात्रों के साथ मारपीट और गाली-गलौज में सबसे आगे रहे एक सीनियर छात्र को 6 माह के लिए कॉलेज और हॉस्टल से बाहर कर दिया। साथ ही 25 हजार रुपये जुर्माना लगाया। जबकि, दो अन्य सीनियर छात्रों को एक माह के लिए कॉलेज से और 6 माह के लिए हॉस्टल से बाहर करने के साथ ही 25 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है।इसे रैगिंग की घटना कहना ठीक नहीं होगा। मामले में जिम्मेदार तीन सीनियर छात्रों पर कार्रवाई की गई है। सभी छात्रों से कहा गया है कि कोई गलत घटना होती है तो व्यक्तिगत तौर पर मुझसे शिकायत करे। डॉ. अरुण जोशी, प्राचार्य, राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी रैगिंग पर कॉलेज प्रबंधन सख्त, तुरंत की कार्रवाई रैगिंग की घटना को लेकर कॉलेज प्रबंधन सख्त रुख अपना रहा है। इसके चलते छात्र भी विशेष सतर्कता बरत रहे हैं। मामले में भी किसी ने शिकायत नहीं की थी। कॉलेज प्रबंधन ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया। मामले की जानकारी के बाद कॉलेज की अनुशासन समिति की बैठक हुई। अनुशासन समिति ने मामले को रैगिंग मानते हुए एंटी रैगिंग कमेटी को सौंप दिया। इसके तुरंत बाद एंटी रैंगिंग कमेटी के सदस्यों को बुलाकर बैठक हुई। इसके बाद तीनों सीनियर छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की गई।यूं शुरू हुआ बवाल: मेडिकल कॉलेज की मेस में शाम के नाश्ते के लिए सीनियर और जूनियर छात्रों का समय निर्धारित किया गया है। जूनियर छात्रों के लिए शाम 4 बजे से 4.30 बजे तक समय तय किया गया है। 4.30 बजे बाद का समय सीनियर छात्रों के लिए निर्धारित है। शनिवार को मेडिकल कॉलेज में सेमिनार होने के चलते जूनियर छात्र देरी से पहुंचे। इसी बीच तीन सीनियर छात्र भी मेस में पहुंच जूनियर से गाली-गलौज की।

पिछले साल हुईं रैगिंग की घटनाएं

1. 5 मार्च 2022 को एमबीबीएस प्रथम वर्ष के सिर

मुड़ा जूनियर छात्रों का वीडियो वायरल हुआ। इसमें

छात्र सीनियर को झुककर विश कर रहे थे।

2. अप्रैल 2022 को इंटर्नशिप कर रहे छात्र ने जूनियर

छात्र को विश नहीं करने पर पीट दिया, उसे हॉस्टल से

निकाला और 30 हजार जुर्माना लगाया।

3. 9 दिसंबर 2022 को एमबीबीएस के फर्स्ट

ईयर के छात्र के साथ सीनियर ने वीडियो कॉल कर

गाली-गलौज की। मामले में 44 छात्रों पर जुर्माना लगा ।

 

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »