12.6 C
London
Sunday, May 26, 2024

महाराष्ट्र के रायगढ़ में भूस्खलन से पूरा गांव मलबे में दबा, 5 से 6 शव निकाले, 120 लोगों के फंसे होने की आशंका

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के खालापुर तहसील के इरशालवाड़ी गांव में बड़ा हादसा हुआ है। यहां की एक बस्ती भूस्खलन की चपेट में आ गई। रात को सोते वक्त कई लोगों पर काल का हमला हो गया। मलबे में 120 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है। आधी रात को हुए इस हादसे के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है और अब तक पांच से छह शव निकाले जा चुके हैं। साथ ही कुल 27 लोगों को सफलतापूर्वक निकाला जा चुका है। इनमें दो से तीन छोटे बच्चे भी शामिल हैं। इस जगह पर कई बचाव दल काम कर रहे हैं। बचाव कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा और अन्य फंसे हुए लोगों को निकाला जा रहा है। उधर, हादसे को लेकर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने घाहेलीकॉप्टर से रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के निर्देश दिए हैं।

शुरुआती जानकारी के अनुसार गांव का 90% हिस्सा मलबे में समा गया है। यहां 30 से 35 आदिवासी घरों की एक बड़ी बस्ती थी। आशंका है कि इस हादसे में बड़ी जनहानि हुई है। 120 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है। अब तक बचाव दल एक महिला और दो बच्चों को बचाने में कामयाब रहा है। चूंकि मिट्टी अभी भी ऊपर गिर रही है। इसलिए बचावकर्मी भी खतरे में है।

डीसी दत्तात्रेय नवले और डीसी सरजेराव सोनावणे को क्रमशः चिकित्सा सहायता और बचाव कार्यों के लिए ओएसडी के रूप में तैनात किया गया है। मौके पर चार एंबुलेंस पहुंच गई हैं। आरएच चौक पर स्वास्थ्य अधिक और चार डॉक्टरों के साथ चार एंबुलेंस तैयार हैं।

90 फीसदी घर तबाह

शुरुआती जानकारी के मुताबिक इस इलाके के 90 फीसदी घर तबाह हो गए हैं और जानमाल के नुकसान की आशंका है। युद्ध स्तर पर राहत टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। हालांकि तेज हवा के कारण कुछ पत्थर अभी भी ऊपर से नीचे आ रहे हैं। इससे बचाव दल के लिए भी खतरा पैदा हो गया है। लेकिन जो लोग फंसे हैं उन्हें तुरंत निकालने लिए युद्ध स्तर पर प्रयास जारी हैं।

तहसीलदार अयूब तम्बोली और उनका प्रशासन स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और कई सामाजिक कार्य सहायता दल और बचाव दल मौके पर पहुंच गए हैं। तो वहीं मंत्री दादा भुसे और विधायक महेश बडाली भी मौके पर पहुंच गए हैं।

लोग डरकर जंगल की ओर भागे

बताया गया है कि हादसे के बाद कुछ लोग डरकर जंगल की ओर भाग गए। आपातकालीन बचाव दल के एक सदस्य ने कहा है कि लोगों के लौटने के बाद ही हमें इस बात की सटीक जानकारी मिलेगी कि इस भूस्खलन के नीचे कितने लोग फंसे हो सकते हैं।

कैबिनेट मंत्री गिरीश महाजन मौके पर

इस बीच राज्य के कैबिनेट मंत्री गिरीश महाजन मौके पर पहुंच गए हैं। मंत्री दादाजी भुसे ने भी सुबह-सुबह यहां का दौरा किया लेकिन तेज हवा और बारिश के कारण वे ऊपर नहीं जा सके। पालक मंत्री और उद्योग मंत्री उदय सामंत मौके पर पहुंच गये हैं।

त्रासदी के लिए कंट्रोल रूम तैयार

एपीआई के खालापुर पुलिस स्टेशन हदित चौक के पास इरशालवाड़ी में आज हुई हादसे को लेकर चौक द्वारक्षेत्र में एक अस्थायी कंट्रोल रूम बनाया है। इसमें एक अधिकारी की तैनाती की गई है और उनका मोबाइल नं 8108195554 है।

 

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »