14.7 C
London
Sunday, June 16, 2024

बारह सूत्रीय मांगों को लेकर आशाओं का धरना जारी 

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी, रुद्रपुर।  अपनी बारह सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकत्रियों का कार्य बहिष्कार 19वें दिन भी जारी रहा। जिला अस्पताल परिसर में धरने पर बैठी आशाओं प्रदेश सरकार पर शोषण करने का आरोप लगाया।

प्रदर्शनरत आशाओं का कहना था कि कई वर्षों से उन्हें सिर्फ प्रोत्साहन राशि ही दी जाती है जिससे उनके परिवार का भी भरण पोषण नहीं हो पाता। उनको न कोई सैलरी और और न ही सरकारी सहायता दी जाती है। अपने स्वास्थ्य की परवाह नहीं करते हुए वह जनता की सेवा करती है। कोविड-19 की दोनों लहर के दौरान कई आशा कार्यकर्ता लोगों की मदद करते हुए शहीद हो गई परंतु सरकार से उनको कोई सहयोग नहीं मिला उनके उपचार के लिए कोई सरकारी सहायता नहीं मुहैया कराई गई। उनका कहना था कि त्योहारों में वह अपने घर छोड़कर लोगों की सेवा करते हैं परंतु सरकार आश्वासन देकर भी उनकी लोगों के मांगे पूरी नहीं करती। यह भी कहा कि जो भी आशा कार्यकर्ता 5 साल से अधिक समय से कार्यरत हैं उनको सरकारी तौर पर परमानेंट किया जाए और हर सरकारी सुविधा दी जाए। आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री को कई बार इस बारे में अवगत कराने के बावजूद भी मांगों का कोई संज्ञान नहीं लिया जा रहा और जब तक 12 सूत्रीय मांगों को सरकार नहीं मानती तब तक सभी आशाएं अनिश्चितकालीन धरने पर रहेंगी। यही नहीं सड़कों पर उतरकर भी प्रदर्शन किया जायेगा।

हड़ताल को प्रमुख समाजसेवी सुब्रत कुमार विश्वास ने भी समर्थन दिया। धरने पर बैठे विश्वास ने आशाओं की मांगें पूर्ण करने की सरकार से मांग की और आशाओं को हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया। इस दौरान ममता पन्नू, प्रिया, बिंदु, प्रेमा थापा, मीना, अनीता, सपना शर्मा, सपना विश्वास, कल्पना मिस्त्री, किरण यादव, आशा चक्रवर्ती, चित्रा, नीमा रस्तोगी आदि धरने पर रही।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »