22.1 C
London
Thursday, July 18, 2024

क्या इस सूपर अर्थ में होगा मानव जैसा जीवन

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

क्या इस सूपर अर्थ में होगा जीवन

पृथ्वी जैसी दूसरी धरती की तलाश में अब एक ऐसी धरती मिली है, जिसे वैज्ञानिकों ने सूपर अर्थ नाम दे डाला है। यह नई धरती हमसे 150 प्रकाश वर्ष दूर है। इसमें जीवन की संभावना जताई जा रही है। यह भी संभव है कि उसमें हम जैसा ही जीवन है। मगर इसका पता लगाने में अभी समय लगेगा। सुपर अर्थ के साथ एक ग्रह नेपच्यून भी मिला है। जिसे वैज्ञानिकों ने मिनी नेपच्यून नाम दिया है। यह खोज बेल्जियम और यू.एस. के खगोलविदों ने मिलकर की है। यह दिनों ग्रह हमसे 150 प्रकाश वर्ष दूर हैं।हमारी तरह ब्रह्माण्ड में न जाने कितने सौरमंडल विद्यमान हैं। अभी तक संकड़ों सौमंडल देखे जा चुके हैं, लेकिन अब जिस सौरमंडल को देखा गया है , वह सूर्य इन सबमें काफी हटकर है। जिसमें एक पृथ्वी के ही समान है। जिसे सूपर अर्थ नाम दिया गया है, जबकि दूसरी कक्षा मेंमिनी-नेपच्यून मौजूद है। यह दोनों एक लाल रंग बौने तारे का चक्कर लगा रहे हैं और एक प्रकार का अलौकिक नृत्य करते प्रतीत हो रहे हैं। बेल्जियम के लीज विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का दावा है कि 150 प्रकाश-वर्ष दूर सौर मंडल में दो ग्रहों का शानदार संसार है। खगोलविदों ने नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट और ग्राउंड-आधारित टेलीस्कोप के जरिए यह खोज की है। यह दोनों ग्रह पृथ्वी के समान चट्टानी हैं। चट्टानी ग्रह होने के कारण इनका महत्व काफी हद तक बढ़ जाता है। इन दोनों ग्रहों के नाम टी ओ आई -2096 बी और टी ओ आई–2096 सी है। आकार में यह दोनों ही पृथ्वी से बड़े हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि इन दोनो ग्रहों के वायुमंडल का अध्ययन करने में आसानी होगी। यह कार्य जल्द शुरू कर दिया जाएगा। इसके लिए अंतरिक्ष में स्थापित जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप की मदद ली जाएगी। वेब टेलिस्कोप अंतरिक्ष में 15 लाख किमी की ऊंचाई में स्थापित की गई है और बहुत दूर तक देखने की क्षमता रखती है। इससे इन दोनों ग्रहों के वातावरण व भीतरी संरचना का आसानी से पता लगाया जा सकता है। भारतीय तारा भौतिकी संस्थान बंगलुरु के पूर्व वैज्ञानिक प्रो आर सी कपूर कहते हैं कि अभी तक पांच हजार से अधिक ग्रहों की खोज की जा चुकी है और खोजे गए यह दोनों ग्रह भी उम्मीद जगाते हैं कि शायद इनसे से एक सूपर अर्थ में जीवन मौजूद हो या फिर कई सारी समानता पृथ्वी जैसी हो। बहरहाल इसका पता कुछ समय बाद ही चल जाएगा।

श्रोत व फोटो: अर्थ स्काई

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »