9.6 C
London
Tuesday, February 20, 2024

एनआरआई महिला ने लगाया पीसीएस अफसर पर 55 लाख रुपए हड़पने का आरोप

- Advertisement -spot_img
spot_img
spot_img

भोंपूराम खबरी,रुद्रपुर। ऊधमसिंह नगर में तैनात एक वरिष्ठ पीसीएस महिला अधिकारी पर वसंत विहार निवासी बुजुर्ग महिला से 55 लाख हड़पने का आरोप लगाते हुए पुलिस महानिदेशक से शिकायत की है। 66 वर्षीय अमेरिका एनआरआई अनिता भल्ला की शिकायत पर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच देहरादून के एसपी यातायात सौंपी है।

आरोप के मुताबिक मामला 2019 का है। अनीता भल्ला का आरोप है कि उनके एक महिला मित्र के माध्यम से महिला पीसीएस अधिकारी जो उस वक्त उत्तराखंड परिवहन विभाग देहरादून में तैनात थी उनसे मुलाकात हुई। धीरे-धीरे जान-पहचान बढ़ी और एक दूसरे पर विश्वास का रिश्ता बन गया। इसी दौरान एक दिन पीसीएस अधिकारी ने अपने परिवार में रुपयों की बेहद आवश्यकता बताई। उसने मजबूरी को समझते हुए अति-विश्वास में आकर ब्लैंक चेक काट कर पीसीएस अधिकारी को दिया, जिसके बाद अधिकारी ने चेक में 55 लाख रुपए भर अपने भाई के कम्पनी के एकाउंट में पेमेंट करा दी। अनिता भल्ला का कहना है कि पीसीएस अधिकारी पर उनका विश्वास ऐसा चुका था कि उन्होंने बिना गारंटी के ही आँख बंद कर ब्लैंक चेक थमा दिया,यही उनकी सबसे बड़ी गलती रही। जिसका हर्जाना वह 4 साल से 55 लाख जैसी बड़ी रकम वापस न मिलने के रूप में भुगत रही है।

बुजुर्ग शिकायतकर्त महिला ने गुरुवार को डीजीपी से मुलाकात की और फिर उसके बाद देहरादून एसएसपी को भी अपना शिकायती प्रार्थना पत्र दिया। डीजीपी अशोक कुमार ने पूरे मामले की जांच एसपी ट्रैफिक अक्षय कोंडे को सौंपी है। शुक्रवार को शिकायतकर्ता महिला के बयान दर्ज कर लेने देन से संबंधित साक्ष्य लेकर पुलिस आगे की कार्रवाई में जुटी है।

अनीता भल्ला का आरोप है कि 2022 से वह लगातार देहरादून पहुंच कर पीसीएस अधिकारी से 55 लाख रुपये वापस लौटने की मांग रही है, लेकिन उन्हें लगातार टालमटोल कर मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है। पीसीएस अधिकारी के भाई और उनके परिचितों ने एक बार फिर उन्हें रुपए लौटाने का आश्वासन दिया, जिसके चलते वह मई 2023 के पहले सप्ताह में अमेरिका से देहरादून पहुँची, लेकिन इस बार भी टालमटोल रवैया अपनाया गया।

Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »